लाहौर सिख यात्रियों से गुलजार

 लाहौर, 7 नवंबर (आईएएनएस)| सिख धर्म के संस्थापक बाबा गुरु नानक के 550वें प्रकाशोत्सव पर दुनिया भर से सिख श्रद्धालु पाकिस्तान पहुंच रहे हैं।

 पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में सिख समुदाय के अत्यंत पवित्र धर्मस्थल हैं और सर्वाधिक विदेशी श्रद्धालु अभी इस प्रांत की राजधानी लाहौर के बाजारों और ऐतिहासिक स्थलों को गुलजार किए हुए हैं। बाबा गुरु नानक के 550वें प्रकाशोत्सव को मुख्य रूप से 12 नवंबर को मनाया जाना है। इस मौके पर दुनिया भर से आए सिख परिवार लाहौर के बाजारों में खरीदारी करते देखे जा रहे हैं। लाहौर के ऐतिहासिक स्थलों पर भी इनकी भीड़ देखी जा रही है।

लाहौर के अनारकली बाजार, देहली गेट, आजम क्लॉथ मार्केट जैसे तमाम बड़े बाजारों में सिख बड़ी संख्या में दिख रहे हैं। ‘एक्सप्रेस न्यूज’ की रिपोर्ट में बताया गया है कि ब्रिटेन से आए सिखों के एक समूह ने अपने सामने बादाम का शुद्ध तेल निकलवाया। अधिकांश पंजाबी पृष्ठभूमि से ही संबंध रखने वाले समुदाय की महिलाएं पंजाबी सूट और जूतियां खरदती नजर आईं।

इस समूह में शामिल साहब सिंह ने कहा कि बचपन से सुनते आए हैं कि जिसने लाहौर नहीं देखा, वह जन्मा ही नहीं। जब पाकिस्तान आने का मौका मिला तो लाहौर देखने की भी हसरत पूरी हो गई।

रमदीप कौर नाम की एक महिला ने बताया कि उनके पास भारत और ब्रिटेन की दोहरी नागरिकता है। लेकिन, इन दोनों ही देशों में मेवे बहुत महंगे मिलते हैं। इसकी तुलना में लाहौर में मेवे सस्ते मिले हैं। सुना था कि यहां बादाम का तेल देसी तरीके से निकाल कर दिया जाता है। हमने इसे भी खरीदा है।

लाहौर के शाही किले में भी सिखों की काफी रौनक है। सिख यात्रियों ने यहां सिख गैलरी व संग्रहालय को देखा। कई यात्री यहां लगाई गई शेरे पंजाब महाराजा रंजीत सिंह की प्रतिमा के साथ सेल्फी लेते देखे गए।

इस बीच, सिख यात्रियों को ठहराने के लिए सभी इंतजाम पूरे कर लिए गए हैं। पाकिस्तान की सरकार और पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने करीब पचास हजार श्रद्धालुओं के ठहरने व खान-पान का इंतजाम किया है।

Comments are closed.