बाल्को के विस्तार पर 6.6 हजार करोड़ रुपये निवेश करेगी वेदांता

नई दिल्ली, 27 जुलाई (आईएएनएस)। तेल एवं गैस और धातु कंपनी वेदांता ने भारत एल्युमिनियम कंपनी (बाल्को) की स्मेल्टर क्षमता में बड़े विस्तार की योजना बनाई है, जिसमें अगले 18-24 महीनों में 6,611 करोड़ रुपये का निवेश शामिल होगा।

लगभग दो दशक पहले बहुमत वाली सरकारी हिस्सेदारी खरीदकर अधिग्रहीत इकाई में वेदांता द्वारा लंबे अंतराल के बाद यह पहला बड़ा निवेश होगा।

विस्तार के हिस्से के रूप में, बाल्को की स्मेल्टर क्षमता में 414 केटीपीए की वृद्धि होगी, जिससे इसकी कुल क्षमता 10 लाख टन के करीब पहुंच जाएगी। इस नए निवेश से बाल्को का मूल्य वर्धित उत्पाद पोर्टफोलियो बढ़कर 92 प्रतिशत हो जाएगा।

इसके अलावा, झारसुगुडा (ओडिशा) में कार्बन प्लांट पर्याप्तता व्यवसाय 635 करोड़ रुपये की लागत से एक नई कार्बन सुविधा स्थापित करेगा।

वेदांता के ग्रुप सीईओ सुनील दुग्गल ने कहा, बाल्को का विस्तार हमारे लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण परियोजना है। हमें अगले 18-24 महीनों में स्मेल्टर क्षमता में वृद्धि की उम्मीद है। इस विस्तार के बाद, वेदांता की एल्यूमीनियम उत्पादन क्षमता बढ़कर 28 लाख टन हो जाएगी।

इस साल फरवरी में वेदांता के निदेशक मंडल ने 3,780 करोड़ रुपये की लागत से लांजीगढ़ एल्यूमिना रिफाइनरी (ओडिशा) को 20 लाख टन प्रतिवर्ष (एमटीपीए) के मौजूदा स्तर से बढ़ाकर 50 लाख टन प्रतिवर्ष करने की मंजूरी दी थी।

इस परियोजना के पूरा होने से रिफाइनरी दुनिया के सबसे बड़े सिंगल-लोकेशन एल्यूमिना रिफाइनरी कॉम्प्लेक्स में से एक बन जाएगी।

वेदांता के एल्युमीनियम व्यवसाय ने वित्तवर्ष 2021-22 की पहली तिमाही के दौरान 549 केटी के उच्चतम उत्पादन और 36 प्रतिशत के मार्जिन के साथ एक मजबूत गति पोस्ट की।

कंपनी को हाल ही में झारसुगुडा में कुरालोई (ए) उत्तरी कोयला ब्लॉक आवंटित किया गया है, जो इसकी स्मेल्टर इकाई के लिए सबसे उपयुक्त होगा।

दुग्गल ने यह भी कहा कि कंपनी अगले दो वर्षो में अपनी उत्पादन लागत को लगभग 300 डॉलर प्रति टन कम करके लगभग 1,200 डॉलर करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। उन्होंने कहा कि इससे एल्युमीनियम कारोबार से होने वाली आमदनी और मुनाफे में काफी सुधार लाने में मदद मिलेगी।

वेदांता ने सोमवार को वित्तवर्ष 2022 की पहली तिमाही में अपने समेकित राजस्व में 79 प्रतिशत की वृद्धि के साथ इसे 28,105 करोड़ रुपये तक ले जाने की घोषणा की। कंपनी ने 10,032 करोड़ रुपये का अब तक का उच्चतम तिमाही ईबीआईटीडीए हासिल किया, जो साल-दर-साल के हिसाब से 150 प्रतिशत अधिक है। जिम्मेदार पीएटी (असाधारण वस्तुओं से पहले) 314 प्रतिशत बढ़कर 4,280 करोड़ रुपये रहा।

पहली तिमाही के दौरान, कंपनी ने अपने ऋण में 6,989 करोड़ रुपये की कमी की, जबकि शुद्ध ऋण/ईबीआईटीडीए अनुपात 0.67 पिछले चार वर्षो में सबसे कम है। कंपनी के पास नकदी और नकद समकक्षों के साथ 31,318 करोड़ रुपये की मजबूत तरलता की स्थिति है।

–आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

You might also like

Comments are closed.