फिलहाल डिजिटल ही आगे बढ़ते रहने का एकमात्र रास्ता है : अविनाश तिवारी

मुंबई, 10 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेता अविनाश तिवारी लॉकडाउन के समय से पहले ही थिएटर और ओटीटी रिलीज के बीच तालमेल बिठाते रहे हैं।

जहां एक तरफ तू है मेरा सनडे और लैला मजनू जैसी उनकी फिल्में बड़े पर्दे पर रिलीज हुई हैं, वहीं दूसरी ओर बुलबुल और घोस्ट स्टोरीज जैसी उनकी परियोजनाएं ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। वर्तमान समय में कोरोना के मामलों में काफी अधिकता देखने को मिल रही है, जिससे बॉक्स ऑफिस का बिजनेस भी काफी प्रभावित हो रहा है। इस पर उनका मानना है कि डिजिटल परियोजनाओं की अधिकता का होना इस वक्त के हिसाब से बेहद सामान्य है।

लेखक हुसैन जैदी की लिखी किताब पर आधारित उनकी अगली परियोजना डोंगरी टू दुबई एक सीरीज के तौर पर ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज होगी।

अविनाश ने आईएएनएस को बताया, आज का समय इंडस्ट्री के लिए बेहद अनिश्चित है, ऐसे में डिजिटल ही आगे बढ़ते रहने का एकमात्र रास्ता है। मैं ओटीटी पर अधिक काम कर रहा हूं, लेकिन इसी के साथ मुझे ऐसे कामों की भी तलाश है, जिनसे मैं बड़े पर्दे पर अपनी वापसी कर सकूं। मैं डोंगरी टू दुबई कर रहा हूं, जो मेरी जानकारी के हिसाब से अमेजन में अब तक की सबसे बड़ी परियोजना है।

–आईएएनएस

एएसएन

You might also like

Comments are closed.