प्रधानमंत्री ने डीपीआईआईटी सचिव गुरुप्रसाद महापात्र के निधन पर शोक व्यक्त किया

नई दिल्ली, 19 जून (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के सचिव डॉ गुरुप्रसाद महापात्र के निधन पर दुख व्यक्त किया।

ओडिशा में जन्मे भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी महापात्र ने शनिवार को कोविड -19 के कारण दम तोड़ दिया। महापात्र का दिल्ली के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था जहां उन्होंने अंतिम सांस ली।

एक ट्वीट में, प्रधानमंत्री ने कहा: डीपीआईआईटी सचिव डॉ गुरुप्रसाद महापात्र के निधन से दुखी हूं। मैंने उनके साथ गुजरात और केंद्र में बड़े पैमाने पर काम किया था। उन्हें प्रशासनिक मुद्दों की बहुत अच्छी समझ थी और उन्हें उनके अभिनव उत्साह के लिए जाना जाता था। उनके परिवार और दोस्तों के प्रति संवेदना। ओम शांति।

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने भी ट्विटर के माध्यम से महापात्र के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा, डीपीआईआईटी सचिव डॉ गुरुप्रसाद महापात्र के निधन के बारे में सुनकर बेहद दुख हुआ। उनका राष्ट्र के प्रति समर्पण ने एक स्थायी प्रभाव छोड़ा है। मेरी उनके परिवार और दोस्तों के प्रति गहरी संवेदना है।

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया। प्रधान ने ट्वीट किया, अग्रणी, उन्होंने गुजरात में शहरी विकास परि²श्य को सुधारने में अद्वितीय योगदान दिया, कई सार्वजनिक उद्यमों का नेतृत्व किया और वाणिज्य और विमानन क्षेत्र को भी आगे बढ़ाया।

1986 बैच के आईएएस अधिकारी, महापात्र ने अगस्त 2019 में डीपीआईआईटी के सचिव के रूप में पदभार ग्रहण किया था।

डीपीआईआईटी के सचिव के रूप में कार्यभार संभालने से पहले, उन्होंने भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया था।

डीपीआईआईटी के एक बयान में कहा गया है कि महापात्र ने वाणिज्य विभाग में संयुक्त सचिव के रूप में भी काम किया था, जहां उन्होंने विशेष आर्थिक क्षेत्रों (एसईजेड), सार्वजनिक खरीद और परियोजना निर्यात (वित्तपोषण और बीमा) को बढ़ावा देने के लिए काम किया था।

–आईएएनएस

एसएस/आरएचए

You might also like

Comments are closed.