Loading...

पीएम-सीएम बैठक : केजरीवाल ने कोरोना के मामले बढ़ने के लिए प्रदूषण को जिम्मेदार ठहराया

Loading...
नई दिल्ली, 24 नवंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अपने पहले चरण की पीएम-सीएम (प्रधानमंत्री-मुख्यमंत्री) की बैठक में कोरोना के मामलों को लेकर आठ सबसे खराब राज्यों की कोविड-19 स्थिति का जायजा लिया।

महाराष्ट्र, केरल, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, छत्तीसगढ़, हरियाणा और गुजरात ऐसे 8 राज्य हैं, कोरोना मामलों में वृद्धि का सामना कर रहे हैं।

बैठक के पहले चरण में, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना मामले अचानक बढ़ने के लिए प्रदूषण को जिम्मेदार ठहराया।

उन्होंने कहा कि हालांकि राष्ट्रीय राजधानी में 10 नवंबर को 8,600 मामलों की अचानक वृद्धि देखी गई, लेकिन पॉजिटिविटी रेट में लगातार कमी आई है।

उन्होंने तीसरी लहर तक केंद्र सरकार के अस्पतालों में 1,000 आईसीयू बेड के लिए आग्रह किया।

बैठक के दौरान एक प्रस्तुति दी गई, जिसमें कहा गया था कि राष्ट्रीय राजधानी में पिछले एक सप्ताह में औसतन 111 मौतें हुई हैं। महाराष्ट्र में रोजाना औसत मृत्यु पिछले एक सप्ताह में 93 पाई गई। राजस्थान की पॉजिटिविटी दर पिछले सप्ताह 21 प्रतिशत पाई गई जो बहुत अधिक थी।

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी उपस्थित थे।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन भी बैठक के दौरान उपस्थित साथ ही नीति आयोग के वी.के. पॉल भी मौजूद थे।

बैठक के दौरान, ममता बनर्जी ने दावा किया कि कोविड पर राज्य का प्रदर्शन अंतर्राष्ट्रीय सीमा के कराण प्रभावित हुआ जो अन्य देशों के साथ यह साझा करता है।

उन्होंने जीएसटी के बकाए का मुद्दा भी उठाया।

बैठक से पहले, राजस्थान सरकार ने मास्क नहीं पहनने वालों के लिए 500 रुपये का जुर्माना लगाया। इसका उल्लेख पीएम-सीएम की बैठक के दौरान भी राज्य द्वारा किया गया था।

शाह ने अमेरिका और यूरोप के उदाहरणों का हवाला दिया और राज्यों से सावधानी बरतने का आग्रह किया।

–आईएएनएस

वीएवी/एसजीके

Loading...

Comments are closed.