पीएम-केयर्स ने ऑक्सीकेयर सिस्टम की 1.5 लाख इकाइयों की खरीद को मंजूरी दी

नई दिल्ली, 12 मई (आईएएनएस)। पीएम-केयर्स फंड ने 322.5 करोड़ रुपये की लागत से ऑक्सीकेयर सिस्टम की 1.5 लाख इकाइयों की खरीद को मंजूरी दे दी है।

डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) द्वारा ऑक्सीजन स्तर के संवेदी मूल्यों के आधार पर मरीजों को दी जा रही ऑक्सीजन को विनियमित करने के लिए प्रणाली विकसित की गई है।

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक बयान में कहा, प्रणाली को दो विन्यासों में विकसित किया गया है। मूल संस्करण में 10 लीटर ऑक्सीजन सिलिंडर, एक दबाव नियामक-सह-प्रवाह नियंत्रक, एक ह्यूमिडिफायर और एक नजल कैनुला शामिल है।

ऑक्सीजन प्रवाह को मैन्युअल रूप से एसपीओ2 रीडिंग के आधार पर विनियमित किया जाता है। इंटेलीजेंट कॉन्फिगरेशन में निम्न दबाव नियामक, इलेक्ट्रॉनिक नियंत्रण प्रणाली और मूल संस्करण के अलावा एक एसपीओ2 जांच के माध्यम से ऑक्सीजन के स्वत: विनियमन के लिए एक प्रणाली शामिल है।

आगे कहा गया है कि एसपीओ2 आधारित ऑक्सीजन नियंत्रण प्रणाली रोगी के एसपीओ2 स्तर के आधार पर ऑक्सीजन की खपत का अनुकूलन करती है और पोर्टेबल ऑक्सीजन सिलिडर की धारण क्षमता को प्रभावी ढंग से बढ़ाती है।

पीएमओ ने उल्लेख किया कि सिस्टम से प्रवाह शुरू करने के लिए थ्रेशोल्ड एसपीओ2 मूल्य को स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा समायोजित किया जा सकता है और एसपीओ2 स्तर की निगरानी सिस्टम द्वारा निरंतर की जाती है।

पीएमओ ने कहा, यह नियमित रूप से माप और ऑक्सीजन प्रवाह के मैनुअल समायोजन की आवश्यकता को समाप्त करके स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के कार्यभार और जोखिम को कम करता है, जिससे टेली-परामर्श की भी सुविधा मिलती है। स्वचालित प्रणाली भी विभिन्न विफलता परिदृश्यों के लिए उपयुक्त ऑडियो चेतावनी देती है, जिसमें निम्न एसपीओ2 मान और जांच शामिल है।

इन ऑक्सीकेयर सिस्टम्स का इस्तेमाल घरों, संगरोध केंद्रों, कोविड देखभाल केंद्रों और अस्पतालों में किया जा सकता है।

इसके अलावा, गैर-रिब्रेथर मास्क (एनआरएम) ऑक्सीजन के कुशल उपयोग के लिए ऑक्सीकार सिस्टम के साथ एकीकृत हैं, जिसके परिणामस्वरूप ऑक्सीजन की बचत 30-40 प्रतिशत तक होती है। डीआरडीओ ने भारत में कई उद्योगों को तकनीक हस्तांतरित की है जो पूरे देश में उपयोग के लिए ऑक्सीकार सिस्टम का उत्पादन करेगा।

वर्तमान चिकित्सा प्रोटोकॉल सभी गंभीर और महत्वपूर्ण कोविड-19 रोगियों के लिए ऑक्सीजन थेरेपी की सिफारिश करता है।

–आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

You might also like

Comments are closed.