पत्नी और बेटियों की हत्या कर व्यापारी ने लगाया मौत को गले

पुणे – पुणे में एक व्यापारी ने आर्थिक तंगी के चलते अपनी पत्नी और दो बेटी की हत्या करके आत्महत्या करने की घटना सामने आयी है. यह घटना शुक्रवार देर रात उत्तमनगर के शिवणे इलाके में घटी. इस घटना से पूरे परिसर में सनसनी फैल गई है. बिजनेस में हो रहे घाटे और बिजनेस के लिए कर्ज को चुका नहीं पाने की वजह से व्यापारी काफी परेशान था, इसलिए खुद को मारने से पहले अपने परिवार की हत्या करके खुद मौत को गले लगा लिया. पत्नी और दोनों बेटियों को जहर देकर हत्या करके खुद आत्महत्या करने का अनुमान पुलिस द्वारा व्यक्त किया जा रहा है.

प्राप्त जानकारी अनुसार पुलिस ने शिवणे इलाके में स्थित मानस सोसायटी के एक फ्लैट से चार लाशें बरामद की है, जिसमें निलेश सुरेश चौधरी (उम्र 38), नीलम चौधरी (उम्र 33), बेटी श्रावणी (उम्र 9) और श्रेया (उम्र 7) की इस घटना में मौत हो गई है. पुलिस ने बताया कि शुक्रवार रात 10 बजे के करीब नागरिकों द्वारा पुलिस को संपर्क कर इस घटना की जानकारी दी गई थी. घटनास्थल पर पहुंचकर पुलिस ने चारों की लाश को ससून हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट द्वारा पत्नी और बेटियों की मौत कैस हुई? यह पता चल सकेगा.

पुलिस ने बताया कि जब फ्लैट के अंदर दाखिल हुए तो निलेश चौधरी ने छत की सीलिंग में फैन लगानेवाले हुक के सहारे रस्सी बांधकर फांसी लगायी हुई थी, निलेश चौधरी की सीलिंग में लटकी हुई लाश पायी गई और पत्नी और दोनों बेटियों की लाश बेड पर ही पायी गई. तीनों सोए हुए अवस्था में बिस्तर में पाए गए और उनके मुंह से झाग बाहर आ रहा था. पुलिस का ऐसा अंदेशा है कि तीनों को जहर देने के बाद निलेश ने फांसी लगाकर आत्महत्या की होगी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत की पुष्ठि हो सकेगी.

निलेश चौधरी का प्लास्टिक मोडलिंग का बिजनेस था, बिजनेस में नुकसान और कर्ज की वजह से निलेश चौधरी काफी परेशान था. पिछले कुछ दिनों से निलेश चौधरी आर्थिक तंगी झेल रहा था. इस बात से निलेश काफी निराश था, मेरे बाद परिवार का क्या होगा इसलिए उसने अपने साथ साथ उसने परिवार की भी जिंदगी समाप्त कर दी. ऐसा निलेश चौधरी ने सुसाइड नोट में लिखने की जानकारी पुलिस ने दी. निलेश चौधरी की दोनों बेटियां पढ़ाई में काफी होशियार थी बड़ी बेटी छठवीं क्लास और दूसरी क्लास में थी. दोनों बेटियां अपने क्लास में परीक्षा में अव्वल आया करती थी, लेकिन निलेश चौधरी आर्थिक तंगी से इतना परेशान हो चुका था कि उसने ऐसा गंभीर कदम उठाया. पुलिस इस मामले में अधिक जांच कर रही है. उत्तमनगर पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करने की प्रक्रिया चल रही है.

You might also like

Comments are closed.