Loading...

दिल्ली चलो आंदोलन के बीच सच्ची पंजाबी भावना

Loading...
चंडीगढ़, 27 नवंबर (आईएएनएस)। दुनिया भर के आपदा प्रभावित क्षेत्रों और नागरिक संघर्ष क्षेत्रों में मानवीय सहायता प्रदान करने वाली पंजाबी भावना अब नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली चलो आंदोलन के दौरान भी देखने को मिली है। किसानों की ओर से दिल्ली में सुनियोजित विरोध के लिए पंजाब से दिल्ली तक उनके आगे के मार्च में दयालुता और करुणा से भरी पंजाबी भावना परिलक्षित हुई है।

पंजाब से दिल्ली के लिए निकले काफिले के बीच एक प्रदर्शनकारी को सुरक्षाकर्मी को पानी पिलाते देखा गया है, जिसकी एक मानवीय पहलू के लिहाज से काफी सराहना की जा रही है।

पंजाब के मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने ट्वीट किया, यही तो पंजाबी भावना है! भारत की भूख मिटाने से लेकर इस सुरक्षाकर्मी की प्यास बुझाने तक – स्पष्ट रूप से, पंजाब के किसान केवल देना जानते हैं। इसलिए अब उन्हें कुछ वापस देने का समय है?

रात में विश्राम लेने के बाद अपने-अपने गंतव्यों से 24 घंटे की यात्रा कर शुक्रवार सुबह दिल्ली की सीमाओं – टिकरी, सिंघु बॉर्डर पहुंचे हजारों की तादात में किसानों का स्वागत ठंडे पानी की बौछारों से किया गया।

हरियाणा के सोनीपत से सटे दिल्ली के बाहरी इलाके सिंघु में दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर पुलिस ने किसानों पर एक के बाद कई आंसू गैस के गोले दागे, क्योंकि प्रदर्शनकारियों का इस तरह से पहुंचना उन्हें खतरे का एक सूचक लगा।

–आईएएनएस

एकेके/जेएनएस

Loading...

Comments are closed.