तमिलनाडु में 23 छात्रों ने कक्षा 12 की सपलीमेंट्री परीक्षा के लिए किया नामांकन

चेन्नई, 1 अगस्त (आईएएनएस)। रविवार को एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि तमिलनाडु स्कूल शिक्षा विभाग की वेटेज प्रणाली के तहत कक्षा 12 के अंक प्राप्त करने वाले 8.16 लाख छात्रों में से केवल 23 ने सपलीमेंट्री परीक्षा में बैठने का विकल्प चुना है।

राज्य के शिक्षा मंत्री अंबिल महेश पय्यामोझी के कार्यालय के बयान में कहा गया है कि परीक्षा के लिए चुने गए सभी 23 छात्र सरकारी स्कूल के छात्र हैं।

राज्य बोर्ड ने उन छात्रों के लिए पूरक परीक्षा में बैठने का विकल्प दिया था, जिन्होंने महसूस किया कि उन्हें वेटेज सिस्टम के तहत कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में अपेक्षित अंक नहीं मिले, जिसने कक्षा 10 के अंकों को 50 प्रतिशत वेटेज दिया, कक्षा 11 के लिए 20 प्रतिशत और कक्षा 12 के आंतरिक मूल्यांकन और व्यावहारिक अंकों के लिए 30 प्रतिशत वेटेज दिया गया।

12वीं कक्षा के परिणाम घोषित करने के बाद, सरकारी परीक्षा निदेशालय ने पीड़ित छात्रों को सपलीमेंट्री परीक्षाओं के लिए आवेदन करने का अवसर प्रदान किया था।

पय्यामोझी ने बयान में कहा कि स्कूल शिक्षा विभाग ने घोषणा की थी कि जो छात्र वेटेज सिस्टम के तहत अपने अंकों से असंतुष्ट हैं, उन्हें सभी विषयों में पूरक लिखित परीक्षा लिखनी होगी और इस परीक्षा के अंक अंतिम होंगे।

उन्होंने कहा कि यही कारण हो सकता है कि अधिकांश छात्र सपलीमेंट्री परीक्षा से बाहर हो गए।

बयान के अनुसार निजी उम्मीदवारों के लिए सपलीमेंट्री परीक्षा 6 से 19 अगस्त तक आयोजित की जाएगी।

सीबीएसई परीक्षा परिणामों के खिलाफ कई शिकायतें भी आ रही हैं। माता-पिता ने शिकायत की है कि कक्षा 10 की परीक्षाओं में उच्च अंक प्राप्त करने वाले छात्रों को बहुत कम अंक दिए गए हैं।

इस बीच, शिक्षा मंत्री के कार्यालय ने कहा कि सरकारी स्कूल के शिक्षकों को 2 अगस्त से स्कूलों तक पहुंचने का निर्देश दिया गया है। स्कूलों को फिर से खोलने की अपनी घोषणा पर आलोचना का शिकार हुए मंत्री ने कहा कि सरकार स्वास्थ्य विशेषज्ञों से रिपोर्ट प्राप्त करने के बाद स्कूलों को फिर से खोलने का निर्णय लेगी।

–आईएएनएस

एमएसबी/एचके

You might also like

Comments are closed.