जयपुर में प्रवासियों ने कहा, महामारी के दौरान भारत में होना हमारी खुशकिस्मती

जयपुर, 21 फरवरी (आईएएनएस)। यह उन युवा प्रवासियों की कहानी है, जिन्होंने सालों पहले अपना देश छोड़ दिया और जयपुर को अपना नया घर बना लिया।

एक दशक से अधिक समय से गुलाबी नगरी में रह रही मैरी-ऐनी औदेजंस और बारबरा मिओलिनी को भारत से प्यार है और इस देश में होने को लेकर खुद को खुशकिस्मत मानती है, जब दुनिया में कोविड-19 महामारी के कारण उथल-पथल है।

कोविड की वजह से प्रतिबंधों के कारण दोनों एक वर्ष से अधिक समय तक यूरोप में अपने परिवारों से मिलने नहीं गईं हालांकि वे अब मिलने के लिए उत्सुक हैं।

स्विट्जरलैंड में जन्मीं बारबरा ने कहा, यह काफी लंबा वक्त रहा है।

उन्होंने कहा, यूरोप और दुनिया के कई अन्य हिस्सों में लोग वहां लगाए गए सख्त प्रतिबंधों के कारण मानसिक रूप से प्रभावित हुए हैं। हालांकि, हम खुशकिस्मत हैं कि हम यहां हर गुजरते दिन के साथ आगे बढ़ रहे हैं। हम मानसिक रूप से उन लोगों के जैसे प्रभावित नहीं हुए हैं।

उन्होंने कहा कि वह 14 साल पहले किसी काम के सिलसिले में जयपुर आई थीं, तब से यहीं रह रही हैं।

बारबरा ने मुस्कुराते हुए कहा, यह बिल्कुल भी योजनाबद्ध नहीं था।

अपनी पृष्ठभूमि पर प्रकाश डालते हुए, बारबरा ने कहा, मैंने अपना होटल मैनेजमेंट स्विट्जरलैंड से किया था, तब एक फैक्ट्री बनाई जो अरमानी और अन्य इतालवी ब्रांडों के लिए प्रोडक्सन करती थी। फिर मैंने यहां एक होटल से शुरुआत की और अब मैं एक नई परियोजना पर काम कर रही हूं।

स्विस और इतालवी मूल की बारबरा स्विट्जरलैंड में पली बढ़ी और पिछले 15 वर्षों से भारत में है। वर्तमान में, वह शहर के बेहतरीन रेस्तरां बार पल्लीदियो की मालकिन हैं।

इस बीच, बारबरा, ईस्टर के दौरान स्विट्जरलैंड में अपने परिवार से मिलने की योजना बना रही है।

अन्य प्रवासी, मैरी-ऐनी, एक इंटीरियर डिजाइनर है जो 10 साल पहले गुलाबी नगरी आई थीं।

उन्होंने कहा, मैं दिल्ली में एक परियोजना पर काम करने के लिए भारत आई थी और फिर जयपुर आने का फैसला किया क्योंकि मेरे पास मेरा कुत्ता था और हमने जयपुर में अधिक सहज महसूस किया।

उन्होंने आगे कहा, जयपुर में, बारबरा ने मुझे अपना बार डिजाइन करने के लिए कहा और उसके बाद मैं यहां काफी समय से काम कर रही हूं। मैंने कुछ बड़े प्रोजेक्ट्स करते हुए अपनी खुद की कंपनी यहां बनाई है।

लॉकडाउन के बारे में उन्होंने कहा, यूरोप और दुनिया के अन्य हिस्सों में हमारे कई दोस्त फंसे हुए हैं, क्योंकि अधिकांश स्थान अभी भी लॉकडाउन में हैं। जबकि हम जयपुर में बाहर जा सकते हैं, हमारे अधिकांश दोस्तों के लिए स्थिति अभी भी एक दुस्वप्न की तरह है। हम बहुत यात्रा करते थे, हमारे परिवार से साल में छह बार मिलते थे क्योंकि वे अक्सर यहां आते थे, हालांकि, अब कोई भी यहां नहीं आ रहा है और हम वहां नहीं जा सकते क्योंकि हमारे पास बिजनेस वीजा है। हमें चिंता है कि अगर हम जाते हैं, तो हम शायद वापस नहीं आ सकें क्योंकि चीजें तेजी से बदल रही हैं।

मैरीव ने आगे कहा, इसके अलावा, मेरे पास एक डच पासपोर्ट है लेकिन पिछले 17 वर्षों से नीदरलैंड्स में नहीं रही हूं। यह एक जटिल मामला है, इसलिए हमने यहां रहने का फैसला किया, अब हम सही समय का इंतजार कर रहे हैं जब हम जाकर अपने परिवार से मिल सकेंगे।

मैरी-ऐनी फ्रांस में पली बढ़ीं हैं। वह इटली, स्पेन और न्यूयॉर्क में भी रही हैं।

उन्होंने कहा, भारत मेर लिए काफी हद तक मेरे घर जैसा है। मैंने यहां अच्छे दोस्त बनाए हैं और कुछ शानदार काम किया है .. इसलिए यह मेरा घर बना हुआ है।

–आईएएनएस

वीएवी-एसकेपी

You might also like

Comments are closed.