चीन के राष्ट्रपति ने सत्ता की निगरानी पर जोर दिया

बीजिंग, 14 जनवरी (आईएएनएस)| चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय कमेटी के महासचिव, राष्ट्रपति व केंद्रीय सैन्य आयोग के अध्यक्ष शी चिनफिंग ने सोमवार को सीपीसी केंद्रीय कमेटी की अनुशासन निगरानी कमिशन के चौथे पूर्णाधिवेशन में पार्टी और राष्ट्र की निगरानी व्यवस्था में सुधार कर सत्ता के संचालन के नियंत्रण और इसकी निगरानी पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इससे पार्टी की नीतियों के कार्यान्वयन को सुनिश्चित किया जा सकेगा और खुशहाल समाज के निर्माण और गरीबी उन्मूलन में निर्णायक विजय पाने के लिए मजबूत गारंटी दी जा सके।

राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा कि सीपीसी की 18वीं कांग्रेस के बाद हमने अभूतपूर्व साहस से चौतरफा तौर पर पार्टी के सख्त प्रबंधन को मजबूत किया और नए युग में ऐतिहासिक और सृजनात्मक उपलब्धियां हासिल कीं।

उन्होंने राजनीतिक निगरानी की गारंटी व्यवस्था के कार्यान्वयन पर बल दिया। उन्होंने कहा कि हमें चीनी विशेषता वाली समाजवादी व्यवस्था के बुनियादी तंत्र पर अडिग रहना और सीपीसी केंद्रीय कमेटी के महत्वपूर्ण फैसलों के कार्यान्वयन को बढ़ाना चाहिए।

शी चिनफिंग ने कहा कि मौजूदा वर्ष में हमें खासतौर पर खुशहाल समाज के लक्ष्य को पूरा करने और गरीबी उन्मूलन में निर्णायक विजय पाने के कार्यों की निगरानी पर खास ध्यान देना चाहिए। गरीब क्षेत्रों में जनता के हितों को नुकसान पहुंचाने वाले मुख्य मुद्दों का निपटारा करना चाहिए और नौकरशाही को दूर करना चाहिए।

शी चिनफिंग ने बल दिया कि हमें टाइगर (बड़े भ्रष्ट अधिकारी) और मक्खी (छोटे भ्रष्ट अधिकारी) दोनों को खत्म करना जारी रखना है और भ्रष्टाचार-रोधी संघर्ष के दीर्घकाल और कठोरता को समझते हुए भ्रष्टाचार-रोधी क्षमता और कार्यकुशलता उन्नत करनी चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि विभिन्न खतरों के पीछे मौजूद भ्रष्टाचार मुद्दों का डटकर निपटारा किया जाना है। हमें वित्त और राजकीय उद्यमों में भ्रष्टाचार-रोधी कार्य को गहराना चाहिए।

उन्होंने इस पर भी बल दिया कि व्यवस्था की प्रतिष्ठा सुरक्षित करना और व्यवस्था के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करना अनुशासन निगरानी संस्थाओं का महत्वपूर्ण कर्तव्य है।

(साभार–चाइना रेडियो इंटरनेशनल ,पेइचिंग)

 

Comments are closed.