केरल, महाराष्ट्र से आने वालों के लिए कर्नाटक ने आरटी-पीसीआर टेस्ट प्रमाणपत्र किया अनिवार्य

बेंगलुरु, 31 जुलाई (आईएएनएस)। कर्नाटक में बढ़ते कोविड-19 मामलों के बीच, राज्य सरकार ने शनिवार को केरल और महाराष्ट्र से राज्य की यात्रा करने वालों के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट प्रमाणपत्र अनिवार्य कर दिया है।

राज्य में बस, फ्लाइट, ट्रेन और निजी वाहनों से आने वाले सभी यात्रियों के लिए प्रमाण पत्र अनिवार्य कर दिया गया है।

कर्नाटक के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण के अतिरिक्त मुख्य सचिव, जावेद अख्तर ने एक आदेश जारी कर कहा है कि एक निगेटिव कोविड रिपोर्ट या प्रमाण पत्र 72 घंटे से अधिक का नहीं होना चाहिए। इससे पहले, राज्य सरकार ने केरल और महाराष्ट्र से राज्य की यात्रा करने के लिए या तो आरटी-पीसीआर टेस्ट या टीकाकरण की एक खुराक का प्रमाण पत्र का विकल्प दिया था।

आदेश में कहा गया है, यहां अधिसूचित संशोधित विशेष निगरानी उपाय का केरल और महाराष्ट्र से आने वाले लोगों के लिए मौजूदा कोविड-19 स्थिति को देखते हुए सख्ती से पालन किया जाएगा।

केरल और महाराष्ट्र से कर्नाटक में आने वाली सभी उड़ानों के लिए यह आदेश अनिवार्य है। एयरलाइनों के लिए यह सुनिश्चित करना अनिवार्य कर दिया गया है कि आरटी-पीसीआर निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट वाले यात्री 72 घंटे से अधिक न हों।

यह आदेश रेलवे अधिकारियों को यह भी जिम्मेदारी देता है कि वे यह सुनिश्चित करें कि केवल कोविड -19 संक्रमण के बिना केरल और महाराष्ट्र से राज्य में प्रवेश करें। बस कंडक्टरों को दो राज्यों से केवल आरटी-पीसीआर निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट वाले लोगों को अनुमति देने का काम सौंपा गया है।

निजी वाहनों के लिए, जिला अधिकारियों को आरटी-पीसीआर रिपोर्ट की जांच के लिए केरल और महाराष्ट्र के सीमावर्ती जिलों में अधिक संख्या में चेकपोस्ट लगाने के लिए कहा गया है।

केरल और महाराष्ट्र से कर्नाटक की यात्रा करने वाले छात्रों और व्यापारियों के लिए भी कोविड प्रमाणपत्र अनिवार्य कर दिया गया है। अंतिम संस्कार और चिकित्सा आपात स्थिति में शामिल होने के लिए यात्रा करने वालों से सैंपल जमा किए जाएंगे।

–आईएएनएस

एचके/एएनएम

You might also like

Comments are closed.