उत्तर प्रदेश में कोरोना टीकाकरण का महाभियान शुरू

लखनऊ, 16 जनवरी (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में कोरोना के खात्मे के लिए टीकाकरण का महाभियान शुरू हो गया है। केजीएमयू के पब्लिक हेल्थ डेंटिस्ट्री के कनिष्ठ सहायक अमर बहादुर को पहला कोरोना टीका लगाया गया ।

उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है । सभी लोग टीका लगवाएं। वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है इसको लेकर किसी तरह का भ्रम ना पाले।

उन्होंने बताया, टीकाकरण के पहले बहुत उत्साह था। लगाने के बाद कोई दिक्कत नहीं थी। मुझे इस टीका पर पूर्ण विश्वास है। मैं अपने देशवासियों से अपील करना चाहता हूं कि इस टीकाकरण अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्सा लें और कोरोना को अपने देश से भगाएं। यह अपने देश के वैज्ञानिकों की बड़ी उपलब्धि है। इस पर किसी प्रकार का संदेह ठीक नहीं है।

इससे पहले राजधानी में शनिवार सुबह आठ बजे से कोल्ड चेन प्वाइंट से वैक्सीन रवाना की गई। वैक्सीन वाहन को पुलिस की फ्लीट संग अस्पताल पहुंचाया गया। यहां से कर्मियों ने वैक्सीन करियर बॉक्स को साइट पर नौ बजे पहुंचाया। इसके बाद वेटिंग रूम में मौजूद हेल्थ कर्मियों को एक-एक कर बुलाया गया। पोर्टल, मैनुअल लिस्ट में दर्ज ब्योरे को मिलाया गया और वैक्सीन की पहली डोज दी गई।

टीका लगने के बाद लाभार्थी के स्वास्थ्य की निगरानी के लिए 30 मिनट ऑब्जर्वेशन रूम में रखा गया। वहीं इमरजेंसी को हैंडल करने के लिए हेल्थ टीम व एंबुलेंस भी सेंटर पर अलर्ट मोड में रही। पहले दिन शहर के 12 अस्पताल की वैक्सीनेशन साइट पर टीकाकरण शुरू हुआ। इन अस्पतालों में 1200 हेल्थ वर्कर को टीका लगाने का लक्ष्य है।

यूपी में शनिवार को 31,700 लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाई जाएगी। सबसे पहले यह वैक्सीन हेल्थ वर्कर्स को लगाई जा रही है।

प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया, यूपी में 10, 55,500 कोविशील्ड और 20,000 कोवैक्सीन के इंजेक्शन प्राप्त हो चुके हैं। विभाग ने पूरी तरह कमर कस ली है। प्रदेश के 8 लाख 57 हजार हेल्थ वर्कर्स के नाम सूचीबद्ध किए गए हैं। प्रदेश में कोल्ड चेन पूरी तरह तैयार हैं। पहले इसकी क्षमता 80,000 लीटर थी, लेकिन इसे बढ़ाते हुए दो लाख 3 हजार लीटर कर दी गई है।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा अमित मोहन प्रसाद ने बताया, प्रदेश में 317 केंद्रों पर यह वैक्सीन लगाई जाएगी। हर केंद्र पर 100-100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। इसके लिए 5-5 सदस्यों की टीम बनाकर स्वाथ्य कर्मियों को टीका लगाया जाएगा। इसकी दूसरी डोज 28 दिन बाद लगाई जाएगी।

–आईएएनएस

विकेटी/आरएचए

You might also like

Comments are closed.