आईएस के खात्मे के लिए आगे आये अमेरिका और इराक

वाशिंगटन, 8 अप्रैल (आईएएनएस)। अमेरिका और इराक ने युद्धग्रस्त देश के बाहर वाशिंगटन के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना के सैनिकों को इस्लामिक स्टेट (आईएस) के खिलाफ लड़ाई में योगदान देने के लिए सहमति व्यक्त की है।

सिन्हुआ समाचार एजेंसी ने बुधवार को कहा, यह फैसला यूएस-इराक स्ट्रैटेजिक वार्ता के बाद लिया गया।

इराकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विदेश मामलों के मंत्री फवाद हुसैन ने किया, जबकि अमेरिकी पक्ष का नेतृत्व राज्य सचिव एंटोनी ब्लिंकन ने किया।

वीडियो टेलीकॉन्फ्रेंस के माध्यम से रणनीतिक वार्ता, जिसे दोनों पक्षों के बीच 2008 में हस्ताक्षरित स्ट्रैटेजिक फ्रेमवर्क एग्रीमेंट के अनुसार आयोजित किया गया था, सुरक्षा और आतंकवाद, अर्थशास्त्र और ऊर्जा, राजनीतिक मुद्दों और सांस्कृतिक संबंधों को लेकर भी चर्चा हुई।

दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय सुरक्षा जारी रखने के अपने आपसी इरादे को समन्वय और सहयोग करने की पुष्टि की। इस बात पर जोर देते हुए कि अमेरिका और इराकी सेना की बढ़ती हुई ताकत को देखते हुए की गई है।

अमेरिका और गठबंधन सेना के मिशन ने अब प्रशिक्षण और सलाहकार कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए एक बदलाव किया है, जिससे इराक से किसी भी बाकी लड़ाकू बलों की दोबारा तैनाती के लिए अनुमति दी जा रही है, ताकि आगामी तकनीकी वार्ता में स्थापित किया जा सके।

बदले में इराकी सरकार अंतरराष्ट्रीय गठबंधन कर्मियों, काफिलों और राजनयिक सुविधाओं की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है, दोनों पक्षों ने जोर दिया कि अभी सैन्य ठिकाने, जिस पर अमेरिका और गठबंधन के जवान मौजूद हैं, वो इराकी ठिकाने हैं और उनकी तैनाती केवल आईएस समूह के खिलाफ लड़ाई के लिए है।

3 जनवरी, 2020 के बाद से बगदाद और वाशिंगटन के बीच रिश्ते तनावपूर्ण हो गये, जब बगदाद हवाई अड्डे पर एक अमेरिकी ड्रोन ने एक काफिले पर हमला किया था, जिसमें ईरान के कुद्स फोर्स के पूर्व कमांडर कासिम सुलेमानी और अर्धसैनिक हैश शाबी के टॉप कमांडर अबू महदी अल-मुहांडिस को मार गिराया था।

इराकी संसद ने 5 जनवरी, 2020 को एक प्रस्ताव पारित किया था, जिसमें सरकार को इराक में विदेशी बलों को हटाने की बात कही गई थी।

तनाव ने दोनों पक्षों को पिछले 12 जून से शुरू होने वाले रणनीतिक संवाद के सत्रों को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित किया और अमेरिका ने देश में अपने सैनिकों को हटाने का वादा किया।

आईएस के आतंकियों के खिलाफ लड़ाई में इराकी बलों का समर्थन करने के लिए इराक में अमेरिकी नेतृत्व वाली गठबंधन सेना तैनात की गई है, जो मुख्य रूप से इराकी बलों को प्रशिक्षण और सलाह दे रही है।

–आईएएनएस

एचके/एएनएम

You might also like

Comments are closed.