आईएसएल ने फुटबाल खिलाड़ियों को जीवन जीने में मदद की है : नीता अंबानी

लंदन, 9 अक्टूबर (आईएएनएस)| भारतीय ओलम्पिक समिति (आईओसी) की सदस्य और रिलायंस फाउंडेशन की संस्थापक एवं चेयरपरसन नीता अंबानी ने बुधवार को यहां बताया कि कैसे 2014 में शुरू हुई इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) ने भारत में फुटबाल को आगे बढ़ाया है। अंबानी का मानना है कि आईएएसएल ने युवा को फुटबाल में अपना करियर बनाने का मौका दिया है। उन्होंने आईएसएल में केरला ब्लास्टर्स के लिए खेल रहे संदेश झिंगन का उदहारण दिया।

अंबानी ने कहा, “जब झिंगन ने आईएसएल में खेलना शुरू किया था तब उनका वेतन 3000 डॉलर था, लेकिन अब उनका वेतन करीब 180,000 डॉलर है। उनके शुरुआती वेतन से 60 गुना ज्यादा।”

आईएसएल ने केवल देश में केवल पेशेवर स्तर पर ही फुटबाल की नहीं बदला है बल्कि ग्रासरूट स्तर पर 15 लाख बच्चों तक भी अपनी पहुंच बनाई है।

अंबानी, एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स फॉर ऑल (ईएसए) पहल की देखरेख भी करती है जो विभिन्न कार्यक्र्मो के जरिए देश में वंचित बच्चों को आगे बढ़ाने का काम करती है।

उन्होंने कहा, “स्कूलों और कॉलेजों के लिए शुरू किया गया हमारा आरएफ युवा खेल कार्यक्रम 90 लाख बच्चों तक पहुंचा है। रिलायंस फाउंडेशन जूनियर एनबीए कार्यक्रम ने 1.1 करोड़ बच्चों को प्रभावित किया है। कुल मिलाकर, सभी खेलों में रिलायंस फाउंडेशन ने देश भर में 2.15 करोड़ से अधिक बच्चों के जीवन को प्रभवित किया है।”

उन्होंने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि भी दी।

 

Comments are closed.