अफगानिस्तान की स्थिति पर चिंतित है चीन

बीजिंग, 12 मई (आईएएनएस)। चीनी स्टेट कांसुलर, विदेश मंत्री वांग यी ने 11 मई को शैनशी प्रांत के शीआन शहर में चीन प्लस पांच मध्य एशियाई देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक में भाग लेने के लिए चीन आए उज्बेकिस्तान, ताजिकिस्तान आदि देशों के विदेश मंत्रियों के साथ वार्ता में अफगानिस्तान की वर्तमान स्थिति पर चीन के रुख पर प्रकाश डाला।

वांग यी ने कहा कि अफगानिस्तान में तैनात विदेशी सैनिकों को अफगानिस्तान में शांति और सुलह की प्रक्रिया में नकारात्मक प्रभावों और गंभीर गड़बड़ी को रोकने के लिए एक व्यवस्थित और जिम्मेदार तरीके से अफगानिस्तान से हटना चाहिए। उज्बेकिस्तान और ताजिकिस्तान आदि अफगानिस्तान के पड़ोसी देशों को समय पर अपने स्थान का समन्वय करना चाहिए, एकीकृत आवाज उठानी चाहिए और कठिनाइयों को दूर करने और आगे बढ़ने के लिए अफगानिस्तान में घरेलू शांति प्रक्रिया का पूरी तरह से समर्थन करना चाहिए।

इस पर चीन ने तीन प्रस्ताव पेश किए, पहला अफगान शांति और सुलह प्रक्रिया को सबसे पहले अफगानिस्तान के नेतृत्व वाले और अफगानिस्तान के स्वामित्व वाले सिद्धांत को लागू करना चाहिए।

दूसरा, अफगानिस्तान को एक व्यापक और समावेशी राजनीतिक व्यवस्था बनाने के लिए बढ़ावा दिया जाना चाहिए, ताकि अफगानिस्तान की सभी जातियां और पक्ष भविष्य के राजनीतिक जीवन में भाग ले सकें।

तीसरा, अफगानिस्तान के भविष्य के राष्ट्रीय प्रशासन ढांचे को अफगानिस्तान की विशेष राष्ट्रीय परिस्थितियों और विकास की जरूरतों को पूरा करने की आवश्यकता है।

वांग यी ने आगे कहा कि इस क्षेत्र के देशों और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को उम्मीद है कि भविष्य की अफगान सरकार एक उदार मुस्लिम नीति अपना सकती है, उग्रवादी प्रवृत्ति से बच सकती है और सभी रूपों के आतंकवाद का विरोध करने में सक्षम हो सकती है।

(साभार : चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

–आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

You might also like

Comments are closed.