नो बॉल विवाद: अंपायर्स के पास इसलिए गए धोनी, हुआ खुलासा

जयपुर : समाचार ऑनलाइन – कल खेले गए मैच में राजस्‍थान रॉयल्‍स और चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स के बीच एक मुद्दा चर्चा में रहा है। जिसमें अंतिम ओवर में नो बॉल को लेकर एक बखेड़ा खड़ा हो गया। जयपुर के सवाई मानसिंह स्‍टेडियम में एक बेहद रोमांचक मुकाबला खेला गया। चेन्‍नई ने अंतिम गेंद पर मिचेल सैंटनर द्वारा जमाए छक्‍के की मदद से मुकाबला जीता और अंक तालिका में अपना शीर्ष स्‍थान बरकरार रखा।

दरअसल, धोनी डगआउट से निकलकर बीच मैदान में अंपायर्स के पास जा पहुंचे और नो बॉल को लेकर झड़प करने लगे। हुआ यूं कि अंपायर उल्‍हास गंधे ने बेन स्‍टोक्‍स की कमर के ऊपर फुलटॉस गेंद पर नो बॉल का इशारा किया, लेकिन लेग अंपायर ब्रूस ऑक्‍सनफोर्ड ने इसे जायज गेंद करार दिया। इससे धोनी आगबबूला हो गए और मैदान पर जाकर अंपायर्स से झड़प करने लगे। धोनी को आईपीएल आचार संहिता के उल्‍लंघन का दोषी पाया गया और उन पर मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया। धोनी ने अपनी गलती स्‍वीकार भी की।

मैच के बाद चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स के कोच स्‍टीफन फ्लेमिंग ने खुलासा किया कि आखिर धोनी अंपायर्स के पास क्‍यों गए। उन्‍होंने कहा, ‘हमारी समझ के मुताबिक गेंदबाजी छोर पर खड़े अंपायर ने नो बॉल का इशारा किया और फिर उलझन आ गई कि यह नो बॉल है या नहीं। धोनी को भी स्‍पष्‍टता चाहिए थी और ऐसा प्रतीत हुआ कि कुछ रिस्‍पोंस नहीं मिला है। यही वजह रही कि धोनी ने मैदान के अंदर जाकर अंपायर्स से विचार-विमर्श करना ठीक समझा।

You might also like

Comments are closed.