आखिरकार खुल ही गया महामंडल नियुक्तियों का पिटारा

0 181
पिंपरी चिंचवड के नेताओं पर पदों की वर्षा
अमित गोरखे अण्णाभाऊ साठे विकास मंडल के अध्यक्ष
राहुल कलाटे पुणे म्हाडा और हेमंत तापकिर खादी ग्रामोद्योग महामंडल के उपाध्यक्ष नियुक्त

पिंपरी : समाचार ऑनलाइन –  महाराष्ट्र की सत्ता में वापसी के बाद तकरीबन साढ़े चार साल तक भाजपा- शिवसेना के आपसी तकरार के चलते महामंडलों की नियुक्तियां अधर में लटकी रही। नतीजन सालों बाद सत्ता मिलने के बाद भी पुराने कार्यकर्ता सत्ता का लाभ पाने से दूर ही रहे। अब जब आगामी चुनावों के लिए दोनों पार्टियों का मनोमिलन हो गया है तब देर से सही सत्ताधीशों ने महामंडल नियुक्तियों का पिटारा खोल दिया है। इसके चलते पिंपरी चिंचवड में भाजपा और शिवसेना नेताओं पर विविध पदों की वर्षा हो रही है। गत दो दिनों में शहर के दो नेताओं को बड़े पद मिलने से भाजपा और शिवसेना नेता व कार्यकर्ताओं की उम्मीदें बढ़ गई हैं।

महामंडल

भाजपा और शिवसेना केंद्र और राज्य की सत्ता में एक साथ रहने के बावजूद पूरे साढ़े चार साल तक एक- दूसरे पर छींटाकशी करने और कीचड़ उछालने में जुटे रहे। सत्ता स्थापन के बाद महामंडल की नियुक्तियां अधर में लटके रहने के पीछे यह सबसे बड़ी वजह बताई जाती रही। 15 साल बाद सत्ता में वापसी के बावजूद दोनों ही पार्टी के पुराने नेता व कार्यकर्ता सत्ता का फल चखने तक से दूर रहे। भाजपा की पिंपरी चिंचवड शहर ईकाई के भूतपूर्व अध्यक्ष सदाशिव खाड़े के पिंपरी चिंचवड नवनगर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति किये जाने के बाद थोड़ी उम्मीद बढ़ गई थी मगर दूसरी नियुक्तियों की दिशा में  ठोस कदम नहीं उठाए जाने से कार्यकर्ता फिर निराशा में घिरने लगे। हालांकि अब जब भाजपा और शिवसेना दोनों का मनोमिलन हो गया है तब कार्यकर्ताओं में छाई निराशा भी दूर होने लगी है।

भाजपा व शिवसेना कार्यकर्ताओं में छाई निराशा तब दूर होने लगी जब सत्ताधीशों ने महामंडल की नियुक्तियों का पिटारा खोल दिया। दो दिनों में पिंपरी चिंचवड शहर के दो बड़े नेताओं को अलग-अलग महामंडलों के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया। इसमें भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य अमित गोरखे, जिन्हें अण्णाभाऊ साहेब साठे विकास महामंडल के अध्यक्ष और शिवसेना के शहरप्रमुख और मनपा में गुटनेता राहुल कलाटे, जिन्हें पुणे म्हाडा के उपाध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया है, शामिल हैं। इससे पहले कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए प्राधिकरण के भूतपूर्व अध्यक्ष बाबासाहेब तापकिर के पुत्र हेमंत तापकिर को खादी ग्रामोद्योग महामंडल के उपाध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया। इनमें से गोरखे और कलाटे की नियुक्तियां लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लागू होने के बाद हुई हैं। ऐसे में वे चुनाव के बाद ही अपने पदभार संभाल सकेंगे। बहरहाल इन नियुक्तियों के बाद से भाजपा- शिवसेना कार्यकर्ताओं में चेतना जाग उठी है।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.